फूड सप्लीमेंट्स क्या होते हैं इनकी क्यों जरूरत होती है

दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि फूड सप्लीमेंट्स क्या होते हैं इनकी क्यों जरूरत होती है इनके बारे में बहुत सी भ्रांतियां भी हैं जिनको आज हम दूर करेंगे कुछ लोगों का मानना है कि यह सेहत के लिए बहुत अच्छे होते हैं और कुछ लोगों का यह विचार है कि यह सेहत के लिए अच्छे नहीं होते हैं इन पर पैसा खर्च करना फ़िज़ूल खर्ची है आज हम यही जानेंगे । कि आखिर सच्चाई क्या है । फूड सप्लीमेंट्स को हिंदी में भोज्य पूरक कहते हैं जिसको आम बोलचाल में कहेंगे जो भोजन की पूर्ति करें अर्थात यह भोजन नहीं है किंतु भोजन की पूर्ति करते हैं हमें जानेंगे कि आखिर भोजन में कमी किस चीज की है जिसकी यह पूर्ति करते हैं मैं आज आपको यह बताना चाहूंगा जो हम भोजन ग्रहण कर रहे हैं वह हमारे शरीर में तीन काम करता है इसका पहला कार्य है शरीर का निर्माण करना और दूसरा कार्य है शरीर को ऊर्जा देना और तीसरा कार्य है शरीर की क्रिया विधि को सुचारु रुप से चलाना प्रोटीन व खनिज जैसे कैल्शियम मैग्नीशियम शरीर का निर्माण करते हैं शरीर को ऊर्जा देने का कार्य कार्बोहाइड्रेट और वसा करते हैं शरीर की क्रिया विधि को सुचारु रुप से चलाने के लिए विटामिन और मिनरल्स की आवश्यकता होती है इसके अतिरिक्त कुछ अमीनो एसिड व फैटी एसिड्स भी शरीर की क्रिया विधि को सुचारु रुप से चलाने के लिए आवश्यक होते हैं। किंतु आज के हमारे भोजन की समस्या यह है कि इसमें शरीर को ऊर्जा देने वाले तत्व तो बहुतायत में हैं किंतु शरीर का निर्माण करने वाले तत्व कम हो गए हैं और शरीर की क्रिया प्रणाली को सुचारु रुप से चलाने वाले सूक्ष्म तत्व तो खतरनाक स्तर तक कम हो चुके हैं। जिसके कारण ही आज हम अनेकों स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे हैं आज हमारा देश डायबिटीज में विश्व की राजधानी बन चुका है यानी कि यानि की की विश्व में सबसे अधिक डायबिटीज के रोगी हमारे देश में हैं हर दूसरा भारतीय पेट के रोगों से ग्रसित है। अब ऐसी ऐसी सी बीमारियां हो रही हैं जो डॉक्टर तक की समझ में नहीं आ रही हैं लोग एलोपैथिक दवाइयों के चंगुल में फंसे हुए हैं। और अपने जीवन को ठीक से जी नहीं पा रहे हैं। परमात्मा ने हमारा शरीर इस प्रकार बनाया है कि यह बीमार पड़ने पर अपने आप को स्वयं ही ठीक कर लें लेकिन इसके लिए शरीर को उचित वातावरण चाहिए होता है यदि हम पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें और उचित दिनचर्या का पालन करें और प्रदूषण मुक्त वातावरण में में रहे तब हम बीमार ही नहीं पड़ेंगे और यदि पड़ भी जाएंगे तो शरीर उसे अपने आप ही ठीक कर लेगा। लेकिन आज की हमारी समस्या यह है कि हमारे भोजन से सूक्ष्म पोषक तत्व जो हमारे शरीर के लिए अति आवश्यक हैं गायब हो चुके हैं वह हमारा पर्यावरण प्रदूषित हो चुका है। आज हम यह जानेंगे कि आखिर हमारे भोजन में यह इतने कम क्यों हो गए हैं साथियों इसका कारण है हमारे भोजन उगाने के तरीके से पकाने के तरीके सही ना होना ।साथियों जो सूक्ष्म पोषक तत्व हमें हमारे भोजन से हमें मिलते हैं वे हमारे भोजन में उस जमीन से आते हैं जिस पर उगते हैं। आजकल हमारे खेतों में से यूरिया डीएपी आर एंड पी के का प्रयोग किया जा रहा है जिससे पौधों को सिर्फ 3 पोषक तत्व ही प्राप्त होते हैं जबकि एक पौधे को स्वस्थ रहने के लिए 16 अन्य प्रकार के सूक्ष्म पोषक तत्वों की भी आवश्यकता होती है और आज की खेती करने के तौर-तरीकों के कारण जमीन में उन सूक्ष्म तत्वों की कमी हो गई है। जिस कारण वह तत्व उस पर उगने वाले फल सब्जियों में नहीं पहुंच पाते हैं। हमारे भोजन के पकाने का तरीका भी ऐसा है जिस से बहुत सी विटामिन नष्ट हो जाते हैं और जिसका परिणाम यह होता है कि उनकी कमी हमारे शरीर में भी हो जाती है। तो साथियों इसका समाधान क्या है या तो हम वह फल और सब्जियां खाएं जो ऑर्गेनिक तरीके से उगाई गई हो यानि कि उस जमीन में कोई रासायनिक खाद ना डाली गई हो सिर्फ कूड़े-कचरे से बनी या किसी अन्य तरीके से बनी जैविक खाद ही डाली गई हो किंतु यह सब आज की परिस्थितियों में हर किसी के लिए संभव नहीं है हमारे यहां बाजार में ऑर्गेनिक तरीके से उगाये गए फल और सब्जी हर जगह उपलब्ध भी नहीं हैं और जहां यह उपलब्ध हैं वहां यह बहुत अधिक महंगे हैं अतः यह सामान्य जनमानस की पहुंच से दूर है ऐसे में आम लोग क्या करें। इसका दूसरा उपाय है फूड सप्लीमेंट्स का सेवन करें फूड सप्लीमेंट्स में वही सूक्ष्म पोषक तत्व होते हैं जो हमें भोजन से मिलने चाहिए थे किंतु पूरी मात्रा में नहीं मिल पाए थे आधुनिक विज्ञान में पोषक तत्वों को गोली में या कैप्सूल्स में उपलब्ध करवा दिया है जिससे यह बहुत ही सस्ते दामों में हर किसी के लिए उपलब्ध हो गए हैं इनको लेना बहुत ही आसान है इनको किसी भी समय खाने के नाश्ते के साथ ले सकते हैं उनको खाने या नाश्ते के साथ लेना ही ज्यादा अच्छा रहता है क्योंकि यह भोजन के ही तत्व है जिससे यह भोजन में अच्छी प्रकार से मिल जाते हैं और आसानी से शरीर को उपलब्ध हो जाते हैं इनका भोजन के साथ लिए जाना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि कुछ पोषक तत्व दूसरे पोषक तत्वों के अवशोषण में व निर्माण में सहायक होते हैं जिससे भोजन में पहले से उपलब्ध पोषक तत्व हमें आसानी से प्राप्त हो जाते हैं । हमारी आज की अनेकों स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं पोषक तत्वों की कमी के कारण ही है और यदि पोषक तत्वों को फूड सप्लीमेंट के माध्यम से लिया जाए तो वे समस्याएं आसानी से ठीक हो सकती हैं जैसे पेट संबंधित समस्याएं कब्ज गैस एसिडिटी आंतों की सूजन अपच बदहजमी आदि समस्याएं पोषक तत्वों के माध्यम से आसानी से ठीक हो जाती हैं और ऐसा हमारा अनुभव है आजकल न्यूरो संबंधित समस्याएं भी बहुत तेजी से बढ़ती जा रही हैं जैसे डिप्रेशन माइग्रेन सिर में दर्द तनाव अनिद्रा इत्यादि और इन समस्याओं के लिए लोग न्यूरो डॉक्टर की दवाइयां खाते रहते हैं और उनका स्वास्थ्य पहले से और अधिक खराब हो जाता है क्योंकि इन दवाओं के बहुत अधिक साइड एफ्फेक्ट होते हैं। मेरा यह स्वयं का अनुभव है।